खेत में लगातार रासायनिक प्रदार्थों और कीटनाशकों के प्रयोग के कारण खेत की मिट्टी की उर्वरक क्षमता कम हो जाती है। ऐसी स्थिति में खेती करने से पूर्व मिट्टी में उपलब्ध पोषक तत्वों की सही जानकारी के लिए मिट्टी की जाँच कराना हर किसान के लिए आवश्यक है। जिससे पौधो के विकास के लिए जरूरी जिंक, बोरॉन, आयरन और जिप्सन आदि 16 जरूरी पोषक तत्वों की पूर्ति की जा सके।

मिट्टी की जाँच को 14 पैमानो पर चेक किया जाता है

पी एच (pH) की मात्रा

ई सी (EC) की मात्रा

जैविक कार्बन की मात्रा (OC)

नाइट्रोजन की मात्रा (N)

फास्फोरस की मात्रा (P)

पोटैशियम की मात्रा (K)

सल्फर की मात्रा (S)

जिंक की मात्रा (Zn)

बोरॉन की मात्रा (B)

आयरन की मात्रा (Fe)

मैगनीज की मात्रा (Mn)

कॉपर की मात्रा (Cu)

जिप्सम की मात्रा (CaSO4. 2H2O)

अम्लीय मृदा की मात्रा (PH)

  • पी एच (pH) की मात्रा
  • ई सी (EC) की मात्रा
  • जैविक कार्बन की मात्रा (OC)
  • नाइट्रोजन की मात्रा (N)
  • फास्फोरस की मात्रा (P)
  • पोटैशियम की मात्रा (K)
  • सल्फर की मात्रा (S)
  • जिंक की मात्रा (Zn)
  • बोरॉन की मात्रा (B)
  • आयरन की मात्रा (Fe)
  • मैगनीज की मात्रा (Mn)
  • कॉपर की मात्रा (Cu)
  • जिप्सम की मात्रा (CaSO4. 2H2O)
  • अम्लीय मृदा की मात्रा (PH)

सॉइल सैम्पल कलेक्शन 🞱

सैम्पल को ग्रीनडे स्टोर पर जमा करें

लैब परीक्षण

सॉइल हेल्थ कार्ड

ग्रीनडे आपको मिट्टी की विस्तृत जाँच की सुविधामात्र ₹600/- (प्रतिजाँच) में देता है। हमारे कृषि विशेषज्ञ मिट्टी के सैंपल की विभिन्न पोषकतत्वों की विस्तृत जाँच करते हैं
और रिजल्ट के अनुसार किसानों को सटीक एवं निष्पक्ष सलाह देते हैं।

🞱 खेत के चारों कोनों और खेत के बीच से 1 फुट का गड्डा खोदकर मिट्टी को निकाल कर साफ जगह पर अच्छे से मिलाए।